Breaking Opinionvideos

शादी से बाहर विवाहेत्तर सम्बन्ध बनाना ” दण्डनीय अपराध” नहीं है।

407views

SC verdict on adultery gives license to married couples to have illegitimate relationships.
सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा के नेतृत्व वाली पाँच जजों की संविधान पीठ ने गुरुवार को बहुमत से निर्णय किया कि शादी से बाहर विवाहेत्तर सम्बन्ध बनाना ” दण्डनीय अपराध” नहीं है। CJI दीपक मिश्रा ने साफ किया कि विवाह से बाहर शारीरिक सम्बन्ध बनाने के आधार पर पति या पत्नी तलाक ले सकता है लेकिन किसी भी महिला को विवाहेतर सम्बन्ध बनाने के लिए ‘सज़ा’ नहीं दी जा सकती।

Leave a Response

Top Reviews

Video Widget