Defence Securityरक्षा सुरक्षा

अर्ध सैनिक बलों के जवानों के लिए योग अनिवार्य

394views

केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों के करीब 10 लाख जवानों के लिए योग करना अनिवार्य कर दिया गया है। अब पाकिस्तान की सीमा के पास से लेकर नक्सलियों के गढ़ तक में तैनात जवानों को प्रतिदिन योग करना होगा। केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से पैरा मिलिट्री फोर्सेज को जारी निर्देश में कहा गया है कि बॉर्डर चौकियों और नक्सली हिंसा प्रभावित इलाकों में भी तैनात जवानों के लिए रोजाना योग करना जरूरी है। यह भी कहा गया है कि निर्देश का पालन किया जाए और एक्शन टेकेन रिपोर्ट सौंपी जाए।

गृह मंत्रालय ने 26 मई को इस बारे में सभी 7 सुरक्षा बलों के डायरेक्टर जनरल को एक सर्कुलर जारी किया था। ये सर्कुलर सीआरपीएफ, सीआईएसएफ, बीएसएफ, आईटीबीपी, एसएसबी, एनएसजी और असम राइफल्स को भेजा गया था।

गृह मंत्रालय के सर्कुलर में सातों सुरक्षा बलों के डीजी से अनुरोध किया गया था कि सभी जवानों के दैनिक व्यायाम में योग को प्रमुखता से शामिल किया जाए और इस दिशा में उठाए गए कदमों के बारे में मंत्रालय को जानकारी भी दी जाए।

गृह मंत्रालय के सर्कुलर में कहा गया है, ‘योग भारत की प्राचीन संस्कृति का अमूल्य उपहार है। हर किसी का कर्तव्य है कि इसे दिनचर्या में शामिल कर संजोने के प्रयास किए जाएं। इसलिए इसे सुरक्षा बलों के जवानों की दिनचर्या में शामिल करना ठीक रहेगा। इससे उन्हें तनावमुक्त रहने में मदद मिलेगी।’ मालूम हो कि 2008 से 2014 के बीच सीआरपीएफ के 228 जवानों ने तनाव के चलते आत्महत्या कर ली थी।

21 जून को पहले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर सेना, नेवी और वायु सेना ने अपने जवानों के योग करने की तस्वीर सोशल नेटवर्किंग साइट पर शेयर की थी। मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने पिछले हफ्ते ही छठी से 10वीं कक्षा तक के लिए सिलेबस जारी किया था जिसमें योग शामिल था।Para military yoga 2

 

Leave a Response

Awadhesh Kumar
A well known Public figure,Tv Panellist, Versatile senior Journalist,writer, popular public speaker in high demand, Political Analyst as well as Social Political Activist.

Top Reviews

Video Widget