Foreign RelationsTerrorismआतंकवादविदेश संबंध

अमेरिका ने पाक को चेताया कि आतंकवादियों पर ठोस कार्रवाई करो

916views

अगर भारत में हमला हुआ तो फिर तुम्हारे लिए समस्या खड़ी हो जाएगी
अवधेश कुमार

 

अमेरिका ने कहा है कि पाक को यह तय करने की जरूरत है कि क्या वह एक जिम्मेदार अंतरराष्ट्रीय देश के रूप में देखा जाना चाहता है या क्या वह आतंकी गुटों के खिलाफ लगातार सख्त कार्रवाई में विफल रहा है और खुद को अलग-थलग होते देख रहा है।  यह बदले हुए भारत की भूमिका का प्रतिफल है कि अमेरिका सहित दुनिया के प्रमुख देश पाकिस्तान के सामने स्पष्ट कर रहे हैं कि भइया सुधर जाओ नहीं तो अब भारत तुम्हें सुधार देगा।

अब अमेरिका ने साफ शब्दों में पाकिस्तान को चेतावनी दे दिया है। उसने साफ कहा है कि अगर भारत पर फिर कोई आतंकवादी हमला होता है तो फिर बहुत बड़ी समस्या हो जाएगी। इसका अर्थ क्या है? अमेरिका के सामने साफ हो गया है कि अगर अब आतंकवादी हमला हुआ तो भारत उससे बड़ी कार्रवाई कर सकता है जैसा उसने पुलवामा हमले के बाद किया है। स्पष्ट है कि अमेरिका की यह धारणा भारत के दृढ़ रुख के कारण बना है। निश्चय ही अमेरिका से बातचीत मे ंभारत ने अपनी मंशा बहुत साफ शब्दों में रखा है। वास्तव में नरेन्द्र मोदी सरकार ने अमेरिका सहित पूरी दुनिया को अपने रुख से अवगत करा दिया है कि अब हमला हुआ तो हम आतंकवादी संगठन पर पाकिस्तान में घुसकर प्रहार करेंगे और उसे नष्ट करने की कोशिश करेंगे। जिन लोगों को मोदी के नाम पर केवल विरोध करना है वे भारत की इस बदली छवि का महत्व नहीं समझ सकते। लेकिन दुनिया इसे समझ चुकी है।

इसीलिए ट्रंप प्रशासन की ओर से कहा गया है कि हमें यह देखने की जरूरत है कि पाकिस्तान अपने क्षेत्र में सक्रिय जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा जैसे आतंकवादी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करे। साफ कहा है कि अगर पाकिस्तान की ओर से इन संगठनों के खिलाफ कोई ठोस एवं गंभीर प्रयास नहीं होते हैं तो कोई भी अन्य हमला पाकिस्तान के लिए बड़ी मुश्किल खड़ी कर सकता है और यह क्षेत्र में फिर से तनाव बढ़ने का कारण भी बन जाएगा। कोई तीसरा देश कूटनीतिक सीमाओं में इसी तरह का संकेत दे सकता है। वही अमेरिका ने किया है। अमेरिका की तरह दूसरे प्रमुख देश भी पाकिस्तान से ऐसा ही आग्रह कर रहे हैं।

हालांकि अमेरिका ने यह माना है कि हाल में पाकिस्तान ने कुछ कदम उठाए हैं, पर ये पर्याप्त नहीं है। वस्तुतः पहले भी ऐसा कई बार देखा गया है कि कुछ लोगों को कुछ वक्त के लिए गिरफ्तार किया जाता है और फिर छोड़ दिए जाते हैं। जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद और जैश के मसूद अजहर के खुलेआम घूमने पर सवाल उठाते हुए अमेरिका ने कहा है किं कई बार तो आतंकवादी सरगनाओं को पूरे देश में घूमने और रैलियां करने तक की इजाजत दी जाती है। ह्वाइट हाउस के अधिकारी ने कहा है कि अमेरिका अपने अंतरराष्ट्रीय साझीदारों के साथ मिलकर आतंकवाद के मसले पर पाकिस्तान पर दबाव बढ़ाने का प्रयास कर रहा है। इससे समझा जा सकता है कि भारत के कड़े तेवर और निर्णायक कार्रवाई की तैयारी के साथ कूटनीति के स्तर पर देशों के सामने अपना पक्ष रखने का असर हुआ है।

जरा अमेरिका की इन पंक्तियों पर ध्यान दीजिए- पाक को यह तय करने की जरूरत है कि क्या वह एक जिम्मेदार अंतरराष्ट्रीय देश के रूप में देखा जाना चाहता है और उसकी सभी वित्तीय तंत्रों तक पहुंच है या क्या वह आतंकी गुटों के खिलाफ लगातार सख्त कार्रवाई में विफल रहा है और खुद को अलग-थलग होते देख रहा है। तो यह पाकिस्तान को तय करना है कि वह अपने लिए कौन सा रास्ता चुनता है। यह बदले हुए भारत की भूमिका का प्रतिफल है कि अमेरिका सहित दुनिया के प्रमुख देश पाकिस्तान के सामने स्पष्ट कर रहे हैं कि भइया सुधर जाओ नही ंतो अब भारत तुम्हें सुधार देगा।

Leave a Response

Awadhesh Kumar
A well known Public figure,Tv Panellist, Versatile senior Journalist,writer, popular public speaker in high demand, Political Analyst as well as Social Political Activist.

Top Reviews

Video Widget